अब UPI पेमेंट पर यूजर्स को देना होगा चार्ज? PhonePe, GPay और केंद्र सरकार के बीच टकराव के हालात

अब UPI पेमेंट पर यूजर्स को देना होगा चार्ज? PhonePe, GPay और केंद्र सरकार के बीच टकराव के हालात

UPI भुगतान पर कोई शुल्क नहीं लगाया जाता है। इससे पहले भी यूपीआई पेमेंट पर चार्ज लगने की खबर चर्चा में थी, जिसे सरकार ने सिरे से खारिज कर दिया था. हालांकि, एक बार फिर से यूपीआई पेमेंट पर चार्ज लगने का मुद्दा उठ गया है.

दरअसल, Paytm पेमेंट बैंक पर प्रतिबंध से PhonePe और Google Pay को फायदा हुआ है। ऐसे में ये दोनों UPI पेमेंट ऐप भारत के UPI मार्केट पर कब्ज़ा कर रहे हैं। ऐसे में यूपीआई ट्रांजैक्शन पर चार्ज वसूलने पर फिर से बहस शुरू हो गई है. हालाँकि, सरकार ने UPI पर शुल्क लगाने की योजना से इनकार किया है।

PhonePe को Google Pay के नुकसान की चिंता सता रही है

सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, फिनटेक कंपनियां यूपीआई में राजस्व की कमी को लेकर चिंता जता रही हैं. उनका कहना है कि बाजार में लंबे समय तक टिके रहने के लिए मर्चेंट डिस्काउंट रेट (एमडीआर) वाले क्रेडिट कार्ड जैसी व्यवस्था की जरूरत होगी. दावा किया जा रहा है कि जीरो एमडीआर बिजनेस मॉडल से घाटा हो रहा है।

इसे लेकर फिनटेक कंपनियों ने सरकार के सामने मुद्दा उठाया है। साथ ही, कुछ फिनटेक कंपनियों ने प्रीपेड भुगतान उपकरणों के माध्यम से किए गए यूपीआई भुगतान पर शुल्क लगाने के बारे में एनपीसीआई के साथ चर्चा की है। हालांकि, इस मामले में कोई फैसला नहीं लिया गया है. सरकार पहले ही यूपीआई भुगतान पर शुल्क लगाने के प्रस्ताव को खारिज कर चुकी है। साथ ही एनपीसीआई ने भी इस मामले में कोई बयान नहीं दिया है.

PhonePe और Google Pe का दबदबा कायम है

आपको बता दें कि भारत के UPI मार्केट के करीब 80 फीसदी हिस्से पर Google Pay और PhonePe का कब्जा है। आरबीआई के प्रतिबंध के बाद फरवरी में पेटीएम का यूपीआई लेनदेन 1.4 बिलियन से घटकर 1.3 बिलियन हो गया, जिसका फायदा PhonePe और GooglePe ने उठाया है।