Holika Dahan 2024: किसे और क्यों नहीं देखना चाहिए होलिका दहन? जानिए क्या है इसका रहस्य

Holika Dahan 2024: किसे और क्यों नहीं देखना चाहिए होलिका दहन? जानिए क्या है इसका रहस्य

Holika Dahan 2024: फाल्गुन माह की पूर्णिमा तिथि के दिन होलिका दहन का पर्व मनाया जाता है जो कि हिंदू धर्म का बेहद ही महत्वपूर्ण पर्व है. होलिका दहन के अगले दिन होली का त्योहार आता है जिसे प्रेम का प्रतीक माना गया है.

इस साल होलिका दहन 24 मार्च 2024 को मनाया जाएगा. इस दिन लोग लकड़ी से होलिका बनाकर उसका विधि-विधान से पूजन करते हैं और घर में सुख-समृद्धि की कामना की जाती है. इसके बाद रात्रि के समय होलिका जलाई जाती है जिसे होलिक दहन कहते हैं. यह पूजा बहुत ही महत्वपूर्ण और खास होती है लेकिन कुछ लोगों को भूलकर भी होलिका दहन नहीं देखना चाहिए. इस नियम का पालन करने से आपके जीवन में बेवजह परेशानियां आ सकती हैं.

किन लोगों को नहीं देखना चाहिए होलिका दहन?

हिंदू धर्म में होली का त्योहार बहुत ही बड़ा और महत्वपूर्ण माना गया है. इस दौरान होलिका दहन के दिन घर की महिलाएं आस-पास बनाई जाने वाली होलिका का विधि-विधान से पूजन करती हैं और बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद लेती हैं. इसके बाद रात्रि के समय शुभ मुहूर्त में होलिका दहन किया जाता है. होलिका दहन देखने के लिए महिलाएं, पुरुष व बच्चे सभी शामिल होते हैं. लेकिन कुछ लोगों को होलिका दहन देखने की मनाही होती है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नवविवाहिता लड़कियों को ससुराल में पहली होली यानि होलिका दहन नहीं देखना चाहिए. यही वजह है कि शादी के बाद लड़की की पहली होली मायके में होती है.

नवविवाहिता लड़कियां ससुराल में पहली होली नहीं देखती और इसके पीछे एक बेहद ही खास वजह छिपी हुई है. पौराणिक कथाओं के अनुसार होलिका दहन के दिन होलिका अग्नि में जलकर राख हो गई थी और इसे बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है. धार्मिक मान्यताओं में होलिका दहन की अग्नि को एक जलते हुए शरीर का प्रतीक माना गया है और यही वजह है कि नवविवाहिता लड़कियां ससुराल में पहली होली नहीं देखती. कहते हैं कि यदि नवविवाहिता लड़की पहली होली देखती है तो उसे वैवाहिक जीवन में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है.

ध्यान रखें कि जो लोग नए घर में शिफ्ट हुए हैं उन्हें भी पहली होली नए घर में नहीं मनानी चाहिए. इसलिए धार्मिक मान्यताओं में होली के आस-पास नए घर में शिफ्ट होने की मनाही है. ऐसा करने पर घर पर संकट आने की संभावना रहती है. इसलिए यदि संभव हो तो होली के बाद नवरात्रि में ही नए घर में प्रवेश करना चाहिए।