राहुल गांधी ने की चीन की तारीफ, कश्मीर को बताया ‘हिंसक जगह’

0
Advertisement
राहुल गांधी ने की चीन की तारीफ, कश्मीर को बताया 'हिंसक जगह'

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने चीन की तारीफ की है। उनकी तरफ से जोर देकर कहा गया है कि चीन शांति का पक्षकार है। उन्होंने कई उदाहरणों के जरिए अपनी बात को समझाने की कोशिश की है। उन्होंने चीन की रणनीति का जिक्र किया है, उसके द्वारा किए गए विकास की बात की है और पश्चिमी देशों की विचारधारा पर भी विस्तार से बताया है।

राहुल ने चीन को लेकर क्या बोला?

राहुल गांधी ने कहा कि आप चीन में जिस तरह का इंफ्रास्ट्रक्चर देखते हो, रेलवे, एयरपोर्ट देखते हो, ये सबकुछ प्रकृति से जुड़ा हुआ है, नदी की ताकत है। चीन प्रकृति के साथ मजबूती से जुड़ा हुआ है। वहीं बात जब अमेरिका की आती है, वो खुद को प्रकृति से बड़ा मानता है। यही बताने के लिए काफी है कि चीन शांति में कितना ज्यादा दिलचस्पी रखता है। इसके अलावा राहुल ने चीन को लेकर ये भी कहा कि वहां पर सरकार एक कॉरपोरेशन की तरह काम करती है। उस वजह से हर जानकारी पर सरकार की पूरी पकड़ रहती है। उनके मुताबिक इस समय भारत और अमेरिका में ऐसी स्थिति नहीं है।

Also Read -   जापानी महिला के साथ बदसलूकी, होली पर युवको ने जबरन लगाया रंग और फोड़ा अंडा

जम्मू-कश्मीर को लेकर राहुल का बयान

राहुल ने अपने संबोधन के दौरान पुलवामा हमले का भी जिक्र किया। उन्होंने जम्मू-कश्मीर को ‘तथाकथित हिंसक जगह’ बता दिया। कांग्रेस नेता ने कहा कि कश्मीर इंसर्जेंसी प्रोन स्टेट है और तथाकथित हिंसक जगह. मैं उस जगह भी गया था जहां हमारे 40 जवानों को मार दिया गया था। वैसे कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में राहुल के दिए कई दूसरे बयान भी चर्चा का विषय बने हुए हैं। उनकी तरफ से पेगासस को लेकर एक बयान दिया गया था।

Also Read -   बिना शादी के प्रेग्नेंट हुई साउथ की ये मशहूर एक्ट्रेस, पॉजिटिव रिजल्ट की शेयर की तस्वीरें

राहुल ने कहा था कि भारत में लोकतंत्र खतरे में है। मेरे फोन में भी पेगासस था। मुझे अधिकारियों ने सलाह दी थी कि मैं फोन पर सावधानी से बात करूं। क्योंकि फोन की रिकॉर्डिंग की जा रही है। भारत में लोकतंत्र खतरे में है। हम लोग एक निरंतर दबाव महसूस कर रहे हैं। विपक्षी नेताओं पर केस किए जा रहे हैं। मेरे ऊपर कई केस किए गए। ऐसे मामलों में केस किए गए, जो बनते ही नहीं, हम अपना बचाव करने की कोशिश कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here