पेपर लीक मामले में गहलोत सरकार सख्त, नकल माफिया के आलीशान बंगले पर चला बुलडोजर

0

जयपुर। राजस्थान के शिक्षक भर्ती परीक्षा में पेपर लीक कराने वाले भूपेंद्र सारण के आवास पर जेडीए ने शनिवार को एक बार फिर बुलडोजर चलाया है। जानकारी के मुताबिक भूपेंद्र ने बिल्डिंग बाइलॉज का उल्लंघन कर जयपुर के रजनी विहार में आलीशान कोठी बनाई है।

इससे पहले शुक्रवार को ही पेपर लीक मामले में भूपेंद्र सारण और गोपाल सारण की पत्नी को जमानत मिली है। जमानत पर बाहर आने के बाद दोनों अपने परिजनों के साथ रजनी विहार पहुंच गए हैं। जहां जेडीए की कार्रवाई चल रही है।

Also Read -   इंस्टाग्राम पर पराए मर्द से प्यार कर बैठी शादीशुदा महिला, 9 महीने के बच्चे को छोड़ पहुंची थाने और फिर

बीते दिन यानी शुक्रवार को जयपुर विकास प्राधिकरण की टीम भूपेंद्र की कोठी गिराने के लिए पहुंची थी, लेकिन काफी देर हो जाने की वजह से कार्रवाई पूरी नहीं हो सकी। ऐसे में शनिवार को सुबह सुबह ही जेडीए का दस्ता एक बार फिर मौके पर पहुंचा। इस दस्ते ने बुलडोजर की मदद से इमारत को तहस नहस करने की कार्रवाई शुरू कर दी है।

Also Read -   18 अप्रैल का राशिफ़ल: स्वास्थ्य पहले से बेहतर रहेंगा, कारोबार में वृद्धि होगी, जानें अपने राशि का हाल

बताया जा रहा है कि पेपर लीक मामले में भूपेंद्र सारण और गोपाल सारण की पत्नी को जमानत मिल गई है। जमानत के बाद जेल से छूटते ही दोनों आरोपी जेडीए की कार्रवाई देखने रजनी विहार पहुंचे हैं। उधर, पेपर लीक मामले में गहलोत सरकार ने 4 सरकारी कर्मचारियों को भी बर्खास्त कर दिया है। इनमें सिरोही जिले के सीनियर टीचर भागीरथ, जालोर के जसवंतराम स्कूल के सीनियर टीचर रावताराम, ठेलिया स्कूल के प्रिंसिपल सुरेश कुमार, चितलवाना झाब में तैनात सीनियर असिस्टेंट पुखराज शामिल हैं।

Also Read -   प्रेमी चुपके से आया और प्रेमिका के साथ कर दिया ये कांड, फिर हुआ ये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here