UP-बिहार समेत इन राज्यों में बढ़ने लगा सर्दी का कहर, आज यहां हो सकती बारिश

0

नई दिल्ली: यूपी-बिहार से लेकर दिल्ली-एनसीआर तक, अब हर तरफ ठंड का असर देखने के लिए मिल रहा है। आपको बता दें कि उत्तर भारत से लेकर मध्य और पूर्व भारत तक लगभग हर तरफ अब ठंड ने दस्तक दे दी है और तापमान में लगातार गिरावट जारी है।

इसी के साथ तमिलनाडु और केरल समेत दक्षिण भारत के कई राज्यों में बारिशों का दौर जारी है। वहीं दूसरी तरफ राजधानी दिल्ली में ठिठुरन बढ़ने लगी है और बीते सोमवार को इस मौसम की सबसे सर्द सुबह दर्ज की गई। वहीं उसके बाद बीते मंगलवार को भी सामान्य से दो डिग्री कम तापमान दर्ज किया गया।

Also Read -   Weather Alert: देश के 15 राज्यों में होगी 3 दिनों तक बारिश, मौसम विभाग ने किया ऑरेंज अलर्ट

आपको बता दें कि बर्फीली हवाओं के चलने की वजह से यूपी-उत्तराखंड, बिहार और झारखंड समेत कुछ इलाकों में ठिठुरन का एहसास होने लगा है। अगर हम मौसम विभाग की मानें तो आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और पुडुचेरी में आज हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है। केवल यही नहीं बल्कि तमिलनाडु, पुडुचेरी, आंध्र प्रदेश और रायलसीमा में 23 नवंबर को भी हल्की से मध्यम बारिश की चेतावनी जारी की गई है। जी हाँ और इस दौरान हवा करीब 50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बहेगी। इसके अलावा देश के अन्य हिस्सों का मौसम शुष्क बना रहेगा और तापमान में गिरावट आ सकती है। आपको बता दें कि दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना हुआ डिप्रेशन अब एक गहरे निम्न दबाव के क्षेत्र में बदल गया है और यह उत्तर पश्चिम दिशा में उत्तर तमिलनाडु और दक्षिण आंध्रप्रदेश के तट की ओर आगे बढ़ा और कुछ और कमजोर हो गया।

Also Read -   आज इन जिलों मे अधिक बारिश होने का अनुमान।

आपको बता दें कि आज आंध्र प्रदेश और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के कुछ इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। केवल यही नहीं बल्कि उत्तरी तमिलनाडु में एक या दो स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। जी दरअसल रायलसीमा और कर्नाटक के कुछ हिस्सों में भी हल्की छिटपुट वर्षा हो सकती है, जबकि लक्षद्वीप में एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश हो सकती है। इसी के साथ उत्तर पश्चिम से शुष्क और ठंडी हवाएं उत्तर पश्चिम, मध्य और पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों में जारी रहेंगी।

Also Read -   UP Weather Forecast: 13 अक्टूबर तक प्रदेश के जिलों मे भारी बारिश की संभावना, फसलें हुई बर्बाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here