क्यो किया जाता है छठ व्रत, क्या है इससे जुड़ी मान्यता, कौन है छठी मैया

0

छठ पूजा का महापर्व 28 अक्टूबर से शुरू हो चुका है, ये उत्सव 31 अक्टूबर की सुबह तक मनाया जाएगा। वैसे तो ये पर्व पूरे देश सहित विदेशों मे भी भारतवंशियों द्वारा मनाया जाता है, लेकिन इसका वैभव बिहार, उत्तर प्रदेश और झारखंड मे अधिक देखा जाता है।

छठ पूजा के दौरान भगवान सूर्यदेव के साथ-साथ छठी मैया की पूजा भी की जाती है। भगवान सूर्यदेव के बारे मे तो सभी जानते है, लेकिन छठी मैया के बारे मे कम ही लोग जानते है। आज हम आपको बता रहे है, छठ पूजा की परंपरा कैसे शुरू हुई और कौन है छठी मैया।

Also Read -   बुद्धिमान व्यक्तियों की पहचान कराती है गीता, जाने ऐसे लोगो की खूबियां

कौन है छठी मैया।

धर्म शास्त्रों के अनुसार, षष्ठी देवी यानी छठी मैया प्रमुख मातृ शक्तियों का ही अंश स्वरूप है। मार्कण्डेयपुराण के अनुसार- स्त्रिय: समस्ता: सकला जगत्सु। प्रकृति के एक प्रधान अंश को देवसेना कहते है जो सबसे श्रेष्ठ मातृका (माता) मानी जाती है। ये समस्त लोकों के नवजात बच्चों की रक्षा करती है। प्रकृति का छठा अंश होने के कारण इन देवी को ही षष्ठी देवी कहा गया है-
षष्ठांशा प्रकृतेर्या च सा च षष्ठी प्रकीर्तिता।
बालकाधिष्ठातृदेवी विष्णुमाया च बालदा।।
आयु:प्रदा च बालानां धात्री रक्षणकारिणी।
सततं शिशुपाश्र्वस्था योगेन सिद्धियोगिनी।।
(ब्रह्मवैवर्तपुराण, प्रकृतिखण्ड 43/4/6)

अर्थ- षष्ठी देवी नवजात शिशुओं की रक्षा करती है तथा उन्हें आरोग्य (अच्छी सेहत) व दीर्घायु (लंबी उम्र )प्रदान करती है। इन षष्ठी देवी का पूजन ही कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को किया जाता है।

Also Read -   सुबह उठकर भूलकर भी नही देखनी चाहिए ये चींजे, नही तो बिगड़ जाता हैं पूरा दिन

ऐसे शुरू हुई छठ पूजा की परंपरा।

पौराणिक कथाओं के अनुसार, सतयुग मे स्वायम्भुव मनु के पुत्र राजा प्रियव्रत नाम के एक राजा हुए, उनकी कोई संतान नही थी। तब महर्षि कश्यप ने पुत्रेष्टि यज्ञ किया, जिससे रानी को गर्भ ठहर गया, किंतु मृत पुत्र उत्पन्न हुआ।

जब राजा प्रियवत उस मृत बालक को लेकर श्मशान गए तो अत्यधिक दुखी होने के कारण प्रियवत ने भी प्राण त्यागने का प्रयास किया। तभी वहां षष्ठी देवी प्रकट हुईं। राजा ने देवी को प्रणाम किया और उनका परिचय पूछा।

Also Read -   Vastu Tips: पर्स में रखें ये चीजें, प्रसन्न होंगी मां लक्ष्मी और हमेशा पैसों से भरी रहेगी जेब

तब देवी ने अपना परिचय दिया और कहा कि- तुम मेरा पूजन करो और अन्य लोगों से भी कराओ। ऐसा कहकर देवी षष्ठी ने उस बालक को उठा लिया और खेल-खेल मे उस बालक को जीवित कर दिया।

राजा प्रियवत ने उसी दिन घर जाकर बड़े उत्साह से नियमानुसार षष्ठी देवी की पूजा संपन्न की। चूंकि यह पूजा कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को की गई थी, अत: इस विधि को षष्ठी देवी/छठ देवी का व्रत होने लगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here