UP Weather Forecast: 13 अक्टूबर तक प्रदेश के जिलों मे भारी बारिश की संभावना, फसलें हुई बर्बाद

0

लखनऊ: उत्तर प्रदेश मे पिछले दो दिनों से हो रही बारिश से जनजीवन प्रभावित है। प्रदेश के कई जिलों मे बारिश के कहर और आकाशीय बिजली से करीब 30 से अधिक लोगों के मरने की खबर सामने आ रही है।

बारिश के जिलों मे 12वीं तक के स्कूल बंद किए गए है। मौसम विभाग ने चौबीस घंटे के भीतर तेज बारिश की सम्भावना जतायी है और कई जिलों को रेड अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी अधिकारियों को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए है।

सोमवार को जारी ताजा बुलेटिन के अनुसार प्रदेश मे 37.4 मिमी से अधिक बारिश हो चुकी है, जबकि एक दिन मे सामान्य बारिश का औसत 1.2 मिमी है। सबसे ज्यादा बिजनौर जिले मे 130.4 मिमी व बरेली मे एक दिन मे 110.6 मिमी बारिश हुई। प्रतापगढ़ मे 89 मिमी, बाराबंकी मे 77.3 मिमी बारिश हुई है। इसी तरह कनौज मे 71.2 मिमी और लखीमपुर खीरी जिले मे 78.4 मिमी बारिश हुई। मौसम विभाग ने 13 अक्टूबर तक पूरे प्रदेश मे बारिश होने की सम्भावना जताई है। मौसम विभाग ने 52 जिलों मे बारिश का अलर्ट जारी करते हुए 27 जिलों मे रेड अलर्ट मोड पर रखा है।

Also Read -   मेडम जी देख लो, I Love You.. मेरठ में छात्रों ने ही किया टीचर का जीना मुहाल, हर जगह करते है छेड़खानी

बारिश का कहर, हुई जनहानि।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ कई जिलों मे भारी बारिश हुई है। इस दौरान आकाशीय बिजली भी गिरी। बरसात और चली हवाओं के साथ पूरी तरह से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। बारिश के चलते कही मकान गिरे तो कही पेड़। बिजली के पोल सड़क पर गिरने से आवागमन बाधित हो गया। कई जिलों मे बिजली प्रभावित रही। बारिश का कहर और आकाशीय बिजली से करीब अब तक 30 से ज्यादा मौतें हो चुकी है। संख्या मे इजाफा भी हो सकता है। इसमें अकेले केवल अलीगढ़, ब्रज मंडल, बदायूं, शाहजहांपुर और पीलीभीत मे चार-चार लोगों की मौत हुई है। सीतापुर, संतकबीरनगर और सिद्धार्थनगर मे भी इतने ही लोगों की जान गई है। हालांकि अभी तक राहत विभाग या शासन की ओर से इसके बारे में कोई सूचना नही जारी की है कि बारिश से कितनी जनहानि हुई है।

Also Read -   औरैया: आतिशबाजी के समय 5 साल के मासूम के पेट मे घुसा रॉकेट, बाहर निकल आई बच्ची की आंते, फिर मौत

फसलें बर्बाद हुई है।

सितम्बर माह की आखिरी दिनों और अब अक्टूबर माह की शुरुआत मे लगातार हो रही बारिश से कई जिलों मे लोगों के ऊपर कहर बनकर बरस रही है। जनजीवन अस्त-व्यस्त हो ही गया है तो वहीं फसलें भी बर्बाद हो गई है।

कृषि वैज्ञानिक डाॅ. एपी सिंह का मनाना है कि इस बारिश के कारण रबी की फसल की बुआई मे तो देर होगा ही, इसके साथ ही खरीफ की फसलों को भी काफी नुकसान होगा। सब्जियों के लिए भी यह नुकसानदायक है।

Also Read -   यूपी में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, 16 IAS अधिकारियो का तबादला

इन जिलों मे रेड अलर्ट।

उप्र मे अगले चौबीस घंटे झांसी, जालौन, बांदा, हमीरपुर, कानपुर नगर, कानपुर देहात, उन्नाव, हरदोई, कन्नौज, औरैया, इटावा, मैनपुरी, फर्रुखाबाद, एटा, आगरा, मथुरा, अलीगढ़, गौतम बुद्ध नगर, बुलंदशहर, संभल, अमरोहा, हापुड़, गाजियाबाद और मेरठ मे भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

मुख्यमंत्री ने दिए आदेश।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बारिश से प्रभावित जिलों मे पूरी तत्परता से राहत कार्य संचालित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए है। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ अधिकारी क्षेत्र का भ्रमण कर राहत कार्यों पर नजर रखें। जलभराव की स्थिति में प्रभावित इलाकों मे प्राथमिकता पर जल निकासी की व्यवस्था करायी जाए। आपदा से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत पहुंचायी जाए।

उल्लेखनीय है उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों मे लगातार बारिश होने के चलते लखनऊ, कानपुर, कानपुर देहात, बरेली, मथुरा, बहराइच जैसे करीब दर्जनभर जिलों मे 12वीं तक के स्कूल आज बंद रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here