17 महीने तक पति का शव घर मे रख पत्नी लगाती रही सिंदूर, अब बैंक मैनेजर ने खोला ऐसा राज, जानिए पूरा मामला?

0
Mithali Dixit

कानपुर में 17 महीने तक लाश को घर में रखने का एक मामले की पुलिस अफसर जांच करने पहुंचे, तो कोऑपरेटिव बैंक की मैनेजर और विमलेश की पत्नी मिताली दीक्षित का दर्द दस्तावेजों पर दर्ज किया गया।

मिताली ने सात साल पहले विमलेश से प्रेम विवाह किया था। दो बच्चे हुए और खुशहाल जिंदगी चल रही थी। अप्रैल 2021 में कोरोना की दूसरी लहर ने मिताली की जिंदगी पर ऐसा तूफान बरपाया कि उसकी दूसरी मिसाल नहीं है।

मिताली ने कहा- ‘मुझे पता था कि उनकी सांसें साथ छोड़ गईं। मैं सुहागन नहीं रही लेकिन क्या करती, उनकी मां के लिए वो जिंदा थे। पापा को उनके सीने में धड़कन महसूस हो रही थी। उनके इस भरोसे ने मुझे मजबूर कर दिया।

Also Read -   कानपुर: सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर खुदाई मे शिवलिंग की आकृति बाले मिले 3 पत्थर, देखा गया नाच-नागिन का जोड़ा, फिर

क्या कहती कि उनका बेटा मर चुका है? अब क्या जांच करेंगे आप? मैं तो महीनों तक उस सुहाग के नाम का सिंदूर लगाती रही, जो गुजर चुका था। सोचिए मांग भरते हुए मैं कितने बार मरी होऊंगी? मेरे हालात ने मुझे जी भरकर रोने भी न दिया। बच्चे कहते थे-पापा को उठाओ मां, मैं अंदर जाकर रो लेती थी। मेरी इस बदनसीबी की जांच करनी है तो कर लीजिए। उन्हें जिंदा समझकर हमने क्या गुनाह कर डाला.?’

Also Read -   मुख्यमंत्री योगी आज कानपुर को देंगे 388 करोड़ रुपये की सौगातें
Mithali Dixit

एक-दो दिन नहीं 17 महीने तक। पुलिस अफसरों ने मिताली का जो बयान दर्ज किया है, उसमें बेइंतहा दर्द छिपा है। उसने कहा है- विमलेश की मां को उनका बेटा जिंदा लग रहा था, पिता और भाई भी मां की आंखों से उन्हें देख रहे थे, बताइए मैं क्या करती? सिंदूर पोछ लेती?.मेरे लिए तो इन 17 महीनों में सिंदूर सजा बन गया था।

Also Read -   बुलंदशहर: लव जिहाद का शिकार युवती ने बताया दर्द, कहा- 8 साल पहले हुई थी दोस्ती, घरवालों ने भी बनाया हवस का शिकार

मैं दुनिया से विमलेश की मौत का सच छिपाए रही, पर क्यों? क्या कोई लालच था? उनके ऑफिस में पूछ लीजिए हमने उनकी तनखाह, मेडिकल या किसी तरह का कोई क्लेम किया है क्या? अब तक की जांच में साफ हो चुका है कि इस परिवार ने ऐसा कोई क्लेम नहीं किया। इससे यह भी साफ हो गया है कि पूरी दुनिया में फैल चुकी विमलेश की कहानी का एक हिस्सा मिताली के उन आंसुओं से लिखा गया है, जो कभी पलकों से नीचे छलके ही नहीं थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here